Monday, February 26, 2024
HomePoliticsCongress state president Ajay Kumar Lallu targeted the government, said - Government...

Congress state president Ajay Kumar Lallu targeted the government, said – Government mocking the unemployed | कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू ने कहा- बेरोजगारों का मज़ाक उड़ा रही सरकार

[ad_1]

  • सरकार पर लगाया आरोप- सवा करोड़ रोजगार देने का दावा करने वाली सरकार सिर्फ धोखा और ठगी कर रही है
  • प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सरकार अपनी पीठ थपथपाने में लगी है और प्रदेश में बेरोजगार आत्महत्या कर रहे हैं

दैनिक भास्कर

Jun 28, 2020, 06:31 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने प्रदेश सरकार द्वारा सवा करोड़ लोगों को रोजगार देने के दावे को झूठा करार देते हुए इसे प्रदेश के बेरोजगारों के साथ छल और धोखाधड़ी करार दिया है। प्रदेश कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस में अजय कुमार लल्लू ने कहा कि भाजपा सरकार सवा करोड़ रोजगार देने का दावा कर रही है, लेकिन यह कोरा झूठ और ठगी है। सवा करोड़ का दावा करके भाजपा सरकार प्रदेश की जनता को ठगने का काम कर रही है। 

लल्लू ने कहा कि भाजपा ने वादा किया था कि हर साल 2 करोड़ नौकरियां देगी, लेकिन इस वादे का क्या हुआ? पिछले 45 साल में बेरोजगारी की दर सबसे अधिक है। यह हम नहीं कह रहे हैं बल्कि यह सरकारी आंकड़ा है। बेरोजगार युवाओं को नौकरी मांगने पर लाठियां बरसाई जाती हैं। प्रदेश में कोई ऐसी भर्ती नहीं है जिसको सही समय पर पूरा किया गया हो। 

उप्र के उद्योगों के लिए आर्थिक तबाही लेकर आई है महामारी

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि जो काम लोग सदियों से करते आ रहे हैं सरकार उसे यह बता रही है कि यह रोजगार उन्होंने दिया है। इस गोरखधंधे और ठगी को जनता माफ नहीं करेगी। कोरोनामहामारी अपने साथ एक आर्थिक तबाही भी लेकर आई है। उत्तर प्रदेश का काच उद्योग, पीतल उद्योग, कालीन उद्योग, बुनकरी, फ़र्नीचर उद्योग, चमड़े का उद्योग, होजरी उद्योग, डेयरी, मिट्टी बर्तन उद्योग, फिशरी-हेचरी उद्योग, अन्य घरेलू उद्योग सभी को तेज झटका लगा है। प्रदेश के लाखों बुनकरों की हालत अत्यंत खराब है। ये कुटीर और लघु उद्योग मंदी की मार सह रहे हैं। लेकिन सरकार ने कोई कोई मदद नहीं की। 

उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में बिसंडा थाना क्षेत्र के अमलोहरा गांव में सूरत से लौटे प्रवासी मजदूर ने शुक्रवार को अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। मृतक अपनी पत्नी के साथ गुजरात के सूरत शहर में रहकर साड़ी कंपनी में छपाई का काम करता था। काम बंद होने पर 20 दिन पहले ही गांव लौटा था। अकेले बांदा जिले में लॉकडाउन के दौरान 20 लोगों के आत्महत्या करने की खबरें आ चुकी हैं। आखिर इन मौतों का जिम्मेदार कौन है? अगर रोजगार मिल रहा है तो लोग आत्महत्या क्यों करने पर मजबूर हैं?

[ad_2]

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

chiffon dress design in pakistan on Realme 6 Pro Review | NDTV Gadgets 360
You searched for on Realme X50 Pro 5G Review
Telefoane Mobile Ieftine si Accesorii on Oppo Enco Free True Wireless Earphones Review